Advertisement
जनता के विचारEditorial/संपादकीय

नो हार, ओन्ली जीत; जीत का रिकॉर्ड बनाने के लिए, खुद का रिकॉर्ड तोड़वा रहे हैं मोदी जी !

(व्यंग्य : राजेंद्र शर्मा)

डैमोक्रेसी को अपने नागपुरी भाई पहले ‘‘मुंड गणना’’ गलत नहीं कहते थे! छोटे-बड़े, ऊंचे-नीचे, अच्छे-बुरे और यहां तक कि महान और मामूली तक का, कोई ख्याल ही नहीं है। सिर्फ और सिर्फ गिनती का भरोसा। अब बताइए! मोदी जी गुजरात में रिकार्ड बना रहे हैं। रिकार्ड सिर्फ बना ही नहीं रहे हैं, खुद अपने बनाए रिकार्ड तुड़वा के भी बना रहे हैं। नरेंद्र का रिकार्ड भूपेंद्र से तुड़वाने के लिए खुद नरेंद्र भाई जी–जान लड़ा रहे हैं। पर ऐसे अद्ïभुत, अकल्पित, दिव्य दृश्य से अभिभूत होकर, अपना जन्म धन्य मानने और मोदी-मोदी पुकारने के मौके पर भी, ये डैमोक्रेसी-डैमोक्रेसी करने वाले गिनती लेकर बैठे हुए हैं। कहते हैं, सिंपल है। दो राज्य, एक नगर निगम, चुनाव कुल तीन, और तीनों में भगवाई सरकार। दो सरकारें निकल गयीं, बच गयी एक! तीन में से बचा सिर्फ एक; एक के ही बचने पर वाह-वाह कैसे करें!

Advertisement

पर बात सिर्फ गिनती के मैदान तक ही रहती, तो फिर भी गनीमत थी। ये तो तस्वीर बीच में ले आए हैं। कह रहे हैं कि दिल्ली हो या हिमाचल या गुजरात, भगवा पार्टी ने चुनाव तो मोदी जी की फोटू पर लड़ा था। दिल्ली में किसी ने कहा कि मोदी जी की फोटो क्यों, तो भाई लोग फोटो पर ही लड़ गए। हमारा नेता, हमारी फोटो। हमारा एक नेता, हमारा एक फोटो, चाहे जिसको बे–चेहरा कर के लगाएं! हिमाचल में तो मोदी जी ने खुद कहा था कि उम्मीदवार का नाम भूल जाओ, बस मेरी फोटो याद रखो। अब अगर गुजरात की जीत, मोदी जी की जीत है, तो हिमाचल और दिल्ली की हार, मोदी जी हार क्यों नहीं है! मीठा-मीठा गप्प और कडुआ-कडुआ थू — ये भी कोई बात हुई!

मोदी जी को गुजरात की जीत का जश्न नहीं मनाने देने के लिए, ये विरोधी और कितना गिरेंगे? गुजरात की जीत को जीत कहने के बहाने, जबर्दस्ती हिमाचल और दिल्ली को हार साबित करने पर तुले हैं। जीत की तरह मोदी जी तो हार को भी जनता का आशीर्वाद मानकर नमन कर लेंगे, पर हार हो तो सही। दिल्ली, हिमाचल में, भगवाइयों की हार थोड़े ही हुए है। वह तो विरोधियों की जीत है, जो मोदी जी ने उन्हें गिफ्ट में दी है। इस हार में भी तो मोदी जी की ही जीत है।

Advertisement

(व्यंग्यकार प्रतिष्ठित पत्रकार और ’लोकलहर’ के संपादक हैं।)

Advertisement

Related posts

कौन हैं ये ईश्वरप्पा, जिनका ऑनलाइन तीर्थाटन करने पहुंचे खुद भाजपा के ब्रह्मा पीएम मोदी !!

Sayeed Pathan

विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस: मीडिया को स्वतंत्रता के साथ संवैधानिक निष्पक्षता और सच्चाई की रक्षा करनी चाहिए

Sayeed Pathan

सांप्रदायिक बुलडोजर से इतिहास का ध्वंस, पढ़िए राजेन्द्र शर्मा का ये आलेख

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!