Advertisement
जनता के विचार

ये कैसी राम भक्ति: परदेसी कलेंडर से रख दी अयोध्या में राम मंदिर उदघाटन की तारीख़ !

तारीख भी वही कहो!
(व्यांग्य : राजेंद्र शर्मा)

ये लो, कर लो बात। अब तो अमित शाह जी ने राम मंदिर के उदघाटन की तारीख भी बता दी। न एक दिन पहले और न एक दिन बाद, 1 जनवरी 2024 को मस्जिद की जगह राम मंदिर का उदघाटन होगा। परवादी को तो शाह जी-मोदी जी की निकाली तारीख में भी मीनिंग-मेख निकालने का मतलब है। और कुछ नहीं मिला तो कह रहे हैं कि 1 जनवरी ही क्यों? ईसाई कलैंडर की न सही, पर यह कम–से–कम देसी कलैंडर की तारीख तो हर्गिज नहीं है। नाम आत्मनिर्भरता का और काम रामलला से परदेसी कलैंडर की तारीख के संबंध में — यह कैसा रामभक्ति है भाई! बाबरी मस्जिद का ध्वंस न सही, मंदिर का उदघाटन तो देसी पंचांग से करें!

Advertisement

पर शाह साहब न विरोधियों के देसी पंचांग प्रेम के धोखे में आने वाले हैं, न आत्मनिर्भरता की उनकी दुहाई से, राम मंदिर के उदघाटन के तयशुदा प्रोग्राम से टस से मस होने वाले हैं। मंदिर का उदघाटन तो 1 जनवरी को ही होगा — नये साल में, राम लला के लिए नया भवन। वह भी छोटा-मोटा नहीं, एकदम गगनचुम्बी। छत के रास्ते स्वर्ग लोक में सीधे आने-जाने की सुविधा। और भगवा पार्टी के लिए फिर से दिल्ली की गद्दी पाने की सुविधा। और पब्लिक के लिए भी, अपना परलोक बनाने वालों को गद्दी देने की सुविधा। बेचारों का यह लोक तो बिगड़ गया। न करने को काम, न खरचने को दाम। अब इस लोक का तो कुछ नहीं हो सकता। कम से कम परलोक ही बना लें। यहां रोटी न सही, कम से कम परलोक में तो घी-दूध की नदियों में डुबकी लगाने का टिकट बनवा लें। यानी मंदिर भले रामलला का ही हो, पर नये साल का गिफ्ट, इंसान से लेकर भगवान तक सब के लिए। जो बात पहली जनवरी में है, किसी रामनवमी वगैरह में वो वाली बात कहां!

सॉरी! मथुरा और बनारस के मस्जिद वाले, 2024 के हैप्पी न्यू इयर पर भी, शाह जी-मोदी जी से कोई उपहार की उम्मीद नहीं है। राम मंदिर चालू हो जाएगा, तो यह हिल रुक ही जाएगा। तब मूर्छित और बनारस का नंबर आया। उसके बाद और का। जब तक चुनाव आते हैं, भगवाई मस्जिदों वजराह पर मंदिर बनवाते जीत जाते हैं। मंदिरों का विकास ही तो वास्तविक विकास है। शरीर का सेवक विकास भी कोई विकास नहीं है, लल्लू!

Advertisement

(व्यांग्यकार प्रतिष्ठित पत्रकार और ‘लोकलहर’ के संपादक हैं।)

Advertisement

Related posts

न्यायपालिका में सेंध लगाकर बिछाई जाती नफरती सुरंगें !!

Sayeed Pathan

नो हार, ओन्ली जीत; जीत का रिकॉर्ड बनाने के लिए, खुद का रिकॉर्ड तोड़वा रहे हैं मोदी जी !

Sayeed Pathan

वो दिन कब आएगा जब मासूमों की मौत पर लगेगा अंकुश

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!