Advertisement
अन्य

विदेश जाने के लिए अब नहीं करनी पड़ेगी भाग-दौड़, 12 देशों के लिए लखनऊ से ही मिल जाएगा वीजा

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यूपी जीआईएस – २३ से पहले शनिवार को प्रदेशवासियों को एक बड़ी सौगात दी है। ऐसे में अब प्रदेशवासियों को वीजा के लिए भागदौड़ नहीं करनी पड़ेगी। वह अपने प्रदेश में वीजा के लिए अप्लाई कर सकेंगे।

दरअसल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को अपने आवास ५, कालिदास मार्ग पर वीएफएस ग्लोबल वीजा एप्लिकेशन सेंटर का उद्घाटन किया । इसी के साथ यहां से ऑस्ट्रिया, चेक गणराज्य, पुर्तगाल, स्विजरलैंड, नीदरलैंड, क्रोएशिया, इटली, सऊदी अरब, हंगरी, जर्मनी सहित कई देशों की वीजा एप्लिकेशन स्वीकार होनी शुरू हो जाएंगी।

Advertisement

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उद्घाटन समारोह में ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट के सप्ताह पूर्व लखनऊ में वीएफएस ग्लोबल सेंटर के उद्घाटन को प्रदेशवासियों के लिए एक अवसर बताया और इसके लिए वीएफएस ग्लोबल के संस्थापक, सीईओ के साथ उनकी टीम को धन्यवाद दिया।

ने कहा कि इस सेंटर के शुरू होने से विभिन्न देशों के लिए वीजा आवेदन करने की एक सरल प्रक्रिया प्रदेशवासियों को मिलने लगेगी। आज के समय में हम तकनीक का उपयोग करके ईज ऑफ डूइंग बिजनेस ही नहीं बल्कि ईज ऑफ लिविंग के लक्ष्य को थोड़े ही प्रयास से प्राप्त कर सकते हैं।

Advertisement

नरेंद्र मोदी ने पिछले नौ वर्षों के दौरान देश के अंदर व्यापक बदलाव लाने का जो कार्य किया है आज उसके परिणाम हम सबके सामने हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीजा और पासपोर्ट को लेकर खासतौर पर एक कॉमनमैन को इमरजेंसी के समय उसे जो परेशानियां होती थी उन सब से मुक्ति दिलायी है। पिछले पांच-छह वर्षों के दौरान बहुत सारे ऐसे ऑपरेशन चलाए गए जिसमें किसी आपदा समेत अन्य परिस्थितियों में विदेशों में फंसे भारतीय नागरिकों को सुरक्षित वापस लाया गया, जिसकी वैश्विक मंच पर काफी सराहना भी हुई। सीएम ने कहा कि इस तरह की कंपनियां संकट काल में भरोसेमंद सहयोगी के रूप में ऑपरेशन राहत – २०१५ (वर्ष २०१५ में युद्ध से प्रभावित अरब देश यमन में फंसे भारतीय नागरिकों की सुरक्षित देश वापसी के लिए संचालित मिशन), वन्दे भारत मिशन – २०२० ( वर्ष २०२० में कोरोना के कारण वैश्विक यात्रा पर लगे प्रतिबन्ध के फलस्वरूप विदेशों में फंसे भारतीय नागरिकों को सुरक्षित वापस लाने के लिए संचालित मिशन ), ऑपरेशन देवी शक्ति – २०२१ (वर्ष २०२१ में अफगानिस्तान की राजधानी काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद काबुल से भारतीय नागरिकों और अफगान सहयोगियों को सुरक्षित भारत लाने के लिए संचालित मिशन) आदि जो मिशन चलाए गए वह वास्तव में संकट के समय अपनों को सहायता पहुंचाने के लिए एक सफलतम कार्यक्रम होते हैं। हाल ही में आपने देखा कि रूस और यूक्रेन के बीच हुए युद्ध में यूक्रेन में फंसे भारतीय बच्चों को वापस लाने के लिए जो ऑपरेशन भारत सरकार के चले उसमें इस प्रकार की आउटसोर्सिंग कंपनियों की बहुत बड़ी भूमिका होती है।

उन्होंने कहा कि इस केन्द्र द्वारा शुरुआत में ऑस्ट्रिया, नीदरलैण्ड्स, चेक रिपब्लिक, स्विट्जरलैण्ड, एस्टोनिया, हंगरी, पुर्तगाल, जर्मनी, इटली तथा सऊदी अरब की यात्रा करने के सम्बन्ध में सेवाएं प्रदान की जाएंगी। यह केन्द्र प्रतिवर्ष १ लाख २० हजार से अधिक वीजा आवेदनों का निस्तारण करने की क्षमता रखता है। मुझे यह बताया गया कि वीएफएस ग्लोबल, इण्डियन होटल्स कम्पनी लिमिटेड के सहयोग से, राज्य सरकार के कौशल विकास कार्यक्रम के अनुरूप, प्रदेश के युवाओं को अतिथि सत्कार सेवाओं का प्रशिक्षण देगी

Advertisement

Related posts

धान की फसल कीट एवं बीमारियों से बचाने के लिए निगरानी करें किसान-जिलाधिकारी

Sayeed Pathan

बालिका शिक्षा के अन्तर्गत किशोरी शिविर में छात्राओ को किया जागरूक

Sayeed Pathan

ठंड से ठिठुरते लोगों को “दी हेल्प एनजीओ” ने ओढ़ाए कंबल कंबल,

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!