Advertisement
उतर प्रदेशलखनऊ

जायद फसलों के आच्छादन तथा उत्पादन को बढ़ाने के लिए, सरकार द्वारा 15.31 करोड़ की वित्तीय स्वीकृति:-कृषि मंत्री

लखनऊ: प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि उत्तर प्रदेश में जायद फसलों के आच्छादन तथा उत्पादन को बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा 15.31 करोड़ की वित्तीय स्वीकृति प्रदान की गई है। इसके साथ ही कृषि विभाग द्वारा विकासखंड स्तर पर स्टाल लगाकर किसानों को 50ः अनुदान पर कृषि यंत्र वितरित किए जा रहे हैं। उन्होंने वर्षा तथा ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों की भी जानकारी दी।
प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने आज सचिवालय स्थित सभाकक्ष में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के किसानों की आय को बढ़ाने के महा अभियान के अंतर्गत उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मार्गदर्शन में अंतर्राष्ट्रीय मिलेट्स वर्ष 2023 के मद्देनजर श्री अन्न के आच्छादन तथा उत्पादन को बढ़ाने का फैसला लिया गया है। इसके लिए कृषि विभाग द्वारा विकासखंड स्तर पर बीज भंडारों में स्टाल लगाकर किसानों को मोटे अनाजों के उन्नतशील, प्रमाणिक हाइब्रिड बीज 50ः अनुदान पर उपलब्ध कराए जा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि इस योजना के क्रियान्वयन के लिए सरकार द्वारा 15.31 करोड़ रुपयों की वित्तीय स्वीकृति प्रदान कर दी गई है। जिससे कि बीज खरीदने वाले किसानों को इसी माह उनके आधार लिंक खाते में अनुदान राशि पहुंचाई जा सके। ऐसे किसान जो सरकारी स्टॉल या बाजार से अधिसूचित कंपनियों से मोटे अनाज के बीज खरीदने पर उनके बिल तुरंत पोर्टल पर अपलोड कर दिए जाएंगे। जिससे कि अनुदान राशि तत्काल उनके डीबीटी खातों में ट्रांसफर कर दी जाएगी।
कृषि मंत्री ने बताया कि श्री अन्न बीज वितरण के इस अभियान से प्रदेश में मोटे अनाजों का आच्छादन 2.5 लाख हेक्टेयर बढ़ जाएगा तथा उत्पादन लगभग दुगुना होने का अनुमान है। वर्तमान में उत्तर प्रदेश में जायद फसलों का आच्छादन लगभग 9 लाख हेक्टेयर है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विजन के अनुसार उत्तर प्रदेश सरकार आजादी के अमृत काल में मोटे अनाज को बढ़ावा देकर उत्तर प्रदेश के किसानों की अन-उपजाऊ तथा असिंचित खेतों को उत्पादक बनानकर उनकी आय बढ़ाने, जहरीले रसायनों से मिट्टी को बचाने तथा पर्यावरण और जल की सुरक्षा के लिए लगातार प्रयास कर रही है।
उन्होंने कहा कि कृषि को कम श्रम साध्य तथा अधिक लाभदाई बनाने के लिए सरकार द्वारा किसानों को अनुदान पर कृषि यंत्र उपलब्ध कराया जा रहे हैं। प्रदेश भर में 20 मार्च से कृषि विभाग द्वारा विकासखंड स्तर पर बीज भंडारों में स्टाल लगाकर किसानों को 10 हजार रुपयों से कम कीमत के कृषि यंत्र 50ः अनुदान पर दिए जा रहे हैं। इसके लिए किसानों को पहले से टोकन जनरेट करने की आवश्यकता नहीं है। विभाग के स्टॉल से या या बाजार से अधिसूचित कंपनियों से कृषि यंत्र खरीदने पर तत्काल उनका बिल पोर्टल पर अपलोड कर दिया जाता है। इसी आधार पर किसानों को उनकी 50ः अनुदान राशि उनके आधार लिंक खातों में इसी माह भेज दी जाएगी।
उन्होंने विगत दो-तीन दिनों से प्रदेश के विभिन्न स्थानों में हो रही वर्षा तथा ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों के संदर्भ में कहा कि जिला प्रशासन द्वारा क्षति का आकलन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जहां त्वरित सहायता की आवश्यकता है वहां सरकार द्वारा मदद पहुंचाई जा रही है। बीमा कंपनियों को निर्देशित किया गया है कि वह 72 घंटों में की जाने वाली मदद को तुरंत किसानों तक पहुंचाएं तथा शेष का आकलन कर बीमित किसानों को सहायता राशि शीघ्र उपलब्ध कराएं।
इस अवसर पर कृषि विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ. देवेश चतुर्वेदी, कृषि निदेशक तथा कृषि विभाग के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Advertisement

Related posts

संतकबीरनगर के इन क्षेत्रों से मंगलवार को मिले 17 नए कोरोना पॉज़िटिव

Sayeed Pathan

काम न मिलने से मनरेगा मज़दूर पस्त,,प्रधान परिवार मनरेगा मलाई काटने में मस्त-अरशद अली की रिपोर्ट

Sayeed Pathan

देवरिया जिले के रुद्रपुर क्षेत्र में 6 लोगों की हत्या मामले में, 14 लोगों को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ जारी

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!