Advertisement
लेखक के विचार

राष्ट्रीय अंगदान दिवस 27 नवम्बर:: किसी के जीवन को बचाने का महत्वपूर्ण दिवस है अंगदान दिवस

27 नवंबर को भारत में राष्ट्रीय अंगदान दिवस मनाया जाता है। यह दिन उन शूरवीरों को समर्पित है जो अपने जीवन का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा – अंगदान करके दूसरों के जीवन को बचाते हैं। अंगदान नेतृत्व और सामाजिक सहयोग का प्रतीक है जो समाज की सेवा में समर्थन प्रदान करता है।

अंगदान एक ऐसा कार्य है जो समाज में आपसी सहयोग की भावना को बढ़ावा देता है। यह दिवस हमें यह सिखाता है कि अपने जीवन से कुछ समय निकालकर दूसरों की सहायता करना कितना महत्त्वपूर्ण है।
अंगदान दिवस का महत्त्व यह है कि यह हमें इंसानियत और सेवा के महत्त्व को समझाता है। इस दिन को मनाकर, हमें समाज में सेवा करने की प्रेरणा मिलती है और हम दूसरों की मदद के लिए तत्परता से काम करते हैं।

Advertisement

अंगदान दिवस हमें याद दिलाता है कि हर व्यक्ति की एक छोटी सी सहायता भी दूसरे के जीवन में बड़ा परिवर्तन ला सकती है। यह एक ऐसी भावना है जो हमें समाज के उत्थान और समृद्धि में मदद करती है।

इस अवसर पर, हमें समाज में सेवा करने के महत्त्व को समझना चाहिए और हमें समाज के उत्थान के लिए सक्रिय रूप से योगदान करने का संकल्प लेना चाहिए। अंगदान दिवस हमें साझा दरिया बनाने की भावना से प्रेरित करता है जो समाज को एकता, समरसता, और सहयोग में बदल सकता है।

Advertisement

राष्ट्रीय अंगदान दिवस के अवसर पर, हमें यह भी याद दिलाना चाहिए कि अंगदान एक श्रेष्ठ और निस्वार्थिक क्रिया है जो हमें एक-दूसरे के साथी बनाती है। यह सामाजिक सद्भावना, अनुशासन, और साझेदारी की भावना को मजबूत करता है।
अंगदान एक बड़ी आवाज है जो हमारे समाज के निर्माण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह एक ऐसा दिन है जो हमें अपनी सेवा और निष्ठा के माध्यम से समाज को मजबूत बनाने की दिशा में प्रेरित करता है।

इस दिवस पर, हमें वह नागरिकता और सहायता की भावना को महसूस करना चाहिए जो हमें समाज की सेवा में लगने के लिए प्रेरित करती है। यह एक समर्थन और एकत्रित समाज का संकल्प है, जो एक-दूसरे के साथ साझा किए गए संकल्पों की शक्ति को दर्शाता है।

Advertisement

इस दिन को मनाकर, हम समाज में शांति, समरसता, और सामर्थ्य की भावना को बढ़ावा देते हैं और हमारी सेवा और समर्थन की भावना को अधिक महत्त्व देते हैं। अंगदान दिवस हमें अपने आसपास के लोगों की मदद करने और समाज को बेहतर बनाने का संकल्प लेने के लिए प्रेरित करता है।

Advertisement

Related posts

मनरेगा :: न रहेंगे जॉब कार्ड, न मजदूर मांगेंगे काम

Sayeed Pathan

पटाखे, आस्था और संघ परिवार:: (आलेख : राजेंद्र शर्मा)

Sayeed Pathan

अब बॉयकॉट गैंग: सिर्फ एक गरीब के बेटे की कुर्सी हिलाने के लिए?

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!