Advertisement
अन्य

अयोध्या:: भारतीय संविधान के प्रथम पृष्ठ पर विद्यमान हैं श्रीराम:-पीएम मोदी

अयोध्या। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को कहा कि अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर का निर्माण न्याय के मार्ग से बना है और इसके इसके लिए न्यायपालिका का अभार है कि उसने न्याय की मर्यादा की रक्षा की है।

श्री मोदी ने जन्म स्थान पर नवनिर्मित भव्य मंदिर के अंत:पूरम में पांच वर्षीय रामलला के नए विग्रह प्राण प्रतिष्ठा पर्व में भाग लेने के बाद वहां आमंत्रित भारत की करीब 150 संत परंपराओं के धर्माचार्यों, साधुओं और विद्वानों तथा विभिन्न क्षेत्रों के गणमान्यों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि श्री राम भारत के संविधान के प्रथम पृष्ठ पर विद्यमान हैं पर आजादी के वर्षों बाद तक उनके अस्तित्व को लेकर सवाल उठाये गए। प्रधानमंत्री ने श्री राम को भारत का विधान और नीति बताया।

Advertisement

उन्होंने राम मंदिर के निर्माण के लिए कानूनी लड़ाई की ओर इंगित करते हुए कहा कि धन्य है कि भारत की न्यायपालिका का कि उसने न्याय की मान मर्यादा की रक्षा की। मोदी ने कहा, “सदियों के अभूतपूर्व धैर्य और अनगिनत बलिदान और त्याग तपस्या के बाद हमारे राम आ गए, हमारे रामलला टेंट में नहीं रहेंगे, अब मंदिर में रहेंगे– यह पल अनुपम है इसकी अनुभूति दुनिया के हर कोने पर राम भक्तों को हो रही है। अयोध्या में रामलला के विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा की ‘22 जनवरी, 2024 की तिथि एक नए कालचक्र का उद्गम है।” उन्होंने कहा, “मैं (श्री मोदी) दिव्य अनुभव कर रहा हूँ जिनकी कृपा से यह कार्य सिद्ध हुआ है।”

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राष्ट्रीय स्वयं सेवक के सरसंघचालक डॉ मोहन भागवत ने भी उपस्थिति गणमान्य लोगाें को संबोधित किया। मंच पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल भी उपस्थित रहीं।

Advertisement

Related posts

किसान और प्रशासन के बीच टकराव की डर से, सरकार ने किया अंतिम विकल्प का इस्तेमाल

Sayeed Pathan

ग्राम प्रधान ग्राम सचिव रोजगार सेवक को, कारण बताओ नोटिस जारी करने के लिए, डीएम ने सीडीओ को दिया निर्देश

Sayeed Pathan

राम मंदिर ट्रस्ट सरकारी नियंत्रण से रहे दूर-विहिप

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!