Advertisement
टॉप न्यूज़राजनीति

झारखंड:: राज्यपाल ने चंपाई सोरेन को दिया सरकार बनाने का न्योता, जल्द लेंगे CM पद की शपथ

झारखंड। सियासी संकट के महागठंबधन JMM, RJD, कांग्रेस) विधायक दल के नेता चंपाई सोरेन को राज्यपाल ने सरकार बनाने का न्योता दिया है। चंपाई ने गुरुवार शाम साढ़े 5 बजे राजभवन जाकर राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन से मुलाकात की।

उन्होंने 47 विधायकों के समर्थन के साथ सरकार बनाने का दावा पेश किया, जिसके बाद राज्यपाल ने उन्हें सरकार बनाने का न्योता दिया। चंपाई सोरेन के सीएम पद पर शपथ लेने की तारीख का ऐलान शुक्रवार को किया जाएगा।

Advertisement

बुधवार को हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी से ऐन वक्त पहले चंपाई सोरेन को महागठबंधन विधायक दल का नेता चुना गया था, जिसके बाद चंपाई ने गुरुवार को राज्यपाल से मिलने का वक्त मांगा था,राज्यपाल से मिलने से पहले उन्होंने विधायकों की गिनती भी करवाई. इसके बाद 5 विधायकों के साथ राज्यपाल से मिलने गए।

चंपाई सोरेन ने राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन को लिखे पत्र में स्पष्ट किया है कि हेमंत सोरेन के इस्तीफे के बाद ही उनके नेतृत्व में सरकार बनाने का दावा पेश किया गया है, चंपाई सोरेन ने लिखा, “हमने 47 विधायकों के समर्थन के दावे और 43 विधायकों की साइन का समर्थन पत्र आपको सौंपा है। 43 विधायक बुधवार को राजभवन के गेट के बाहर भी खड़े थे. पिछले 18 घंटों से राज्य में कोई सरकार नहीं है, इससे असमंजस की स्थिति है, इसलिए आग्रह है कि सरकार बनाने के लिए हमें बुलाया जाए।

Advertisement

निशिकांत दुबे ने आरोप लगाया है कि JMM के 48-49 MLA हैं, लेकिन वो सिर्फ 42-43 का ही सिग्नेचर ले पाए हैं. सीता सोरेन, रामदास सोरेन बैठक में नहीं थे, कांग्रेस के कई नेता बैठक में नहीं थे. मुझे लगता है कि इनके पास MLA नहीं है चंपाई सोरेन के पास बहुमत नहीं है।

झारखंड में सियासी संकट के बीच खबर है कि महागठबंधन (JMM, RJD, कांग्रेस) अपने विधायकों को हैदराबाद शिफ्ट कर सकता है. विधायक दल के नेता चंपाई सोरेन समेत 5 MLA रांची में रहेंगे, जो हालात पर नजर रखेंगे. बाकी विधायकों को हैदराबाद शिफ्ट किया जाएगा. पूरे मामले पर बीजेपी ने भी शुक्रवार 2 फरवरी को अपने विधायक दल की बैठक बुलाई है।

Advertisement

चंपाई सोरेन को ‘झारखंड टाइगर’ के नाम से भी जाना जाता है, झारखंड की सियासी गलियारों में चंपाई को शिबू सोरेन का हनुमान कहा जाता है. सरायकेला से इन्होंने 1991 से 2019 के बीच 6 बार विधानसभा का चुनाव जीता. 2000 में सिर्फ एक बार हारे. हेमंत सोरेन जब पहली बार सीएम बने थे, तब इन्हें फूड सप्लाई और साइंस एंड टेक्नोलॉजी मिनिस्टर बनाया गया था।

Advertisement

Related posts

मुसलमान समाजवादी पार्टी से खुश नहीं है और उनको वोट नहीं करेंगे-: मायावती

Sayeed Pathan

फोन टेपिंग मामले में राजस्थान के प्रमुख सचिव को गृह मंत्रालय ने किया तलब

Sayeed Pathan

140 करोड़ जनमानस का गुस्सा, भाजपा को 140 सीटों के लिए तरसा देगी : अखिलेश यादव

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!