Advertisement
टॉप न्यूज़दिल्ली एन सी आरराष्ट्रीय

प्रधानमंत्री ने क्षेत्र और जाति के आदि के आधार पर, विभाजन करने वाली बातें फैलाने पर जताई पीड़ा

नयी दिल्ली- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विपक्ष के कुछ लोगों की ओर से देश में क्षेत्र और जाति के आदि के आधार पर विभाजन पैदा करने वाली बातें फैलाए जाने के प्रयासों पर बुधवार को ‘पीड़ा’ जताते हुये कहा कि देश की विकास के लिये इस तरह की बातें बंद हों और सब मिलकर काम करें।

प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर लंबी चर्चा का जबाव देते हुये कहा, “कुछ लोग राजनैतिक स्वार्थ के लिये देश को तोड़ने का बात (नैरेटिव) गढ़ते हैं। इससे पीड़ा होती है। यह राष्ट्र हमारे लिये जमीन का टुकड़ा नहीं, प्रेरणा देने वाली इकाई, शरीर है। जैसे शरीर के एक अंग में कांटा चुभ जाए तो आंसू आंख में आता है और कांटा निकालने के लिये हाथ वहां पहुंच जाता है।”

Advertisement

प्रधानमंत्री ने राष्ट्र को एकांगी भाव से देखने की आवश्यकता पर बल देते हुये कहा कि जिस तरह शरीर का एक अंग काम करना बंद कर दे तो पूरा शरीर अपंग हो जाता है उसी तरह देश का एक कोना काम नहीं करता है तो पूरा देश प्रभावित होता है। उन्होंने कहा, “क्या हिमालय यह कहना शुरू कर दे कि नदियां केवल मेरी हैं, क्या एक राज्य यह कह सकता है कि कोयला मेरा है बाकी क्षेत्र अंधेरे में रहें।”

उन्होंने देश के विकास के लिये राज्यों के विकास को जरूरी बताते हुये कहा कि उनकी सरकार के ‘कार्यक्रमों की रचना’ सबको साथ लेकर चलने की है हम राज्य को उसका हक देना चाहते हैं। उन्होंने कोविड महामारी का मुकाबला करने, जी-20 सम्मेलन और पिछड़े जिलों के विकास के कार्यक्रमों की उल्लेखनीय सफलता करते हुये कहा कि यह सब राज्यों की भागीदारी के बिना संभव नहीं था।

Advertisement

श्री मोदी ने कहा कि जी-20 की एक बैठक दिल्ली में हुयी जबकि दो सौ बैठकें विभिन्न राज्यों में हुईं, यह पूरी योजना के साथ राज्यों के सहयोग से हुआ। उन्होंने कहा कि वह हर विदेशी मेहमान से कहते हैं कि आप दिल्ली के अलावा, हमारे किसी राज्य में जरूर चलें! उन्होंने हाल में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों की भारत यात्रा का जिक्र करते हुये कहा कि गणतंत्र दिवस की व्यवस्तताओं के बावजूद वह उन्हें लेकर जयपुर की गलियों में घूमे।

प्रधानमंत्री ने कहा, “पिछड़ा जिला कार्यक्रम की सफलता की दुनिया में चर्चा हो रही है। इसमें 80 प्रतिशत भूमिका राज्यों की है और इसमें जिलाधिकारियों का रोल महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के समय हमने टीम के रूप में काम किया मुख्यमंत्रियों के साथ मैंने 20 बैठकें कीं। हम सबने मिलकर देश को बचाया। इसका श्रेय सबको जाता है।”

Advertisement

उन्होंने कहा कि कोविड के समय पूर्वी क्षेत्र के राज्यों में तैयार मेडिकल ऑक्सीजन दूसरे राज्यों के लोगों के जान बचाने के लिये ले जायी गयी, उस समय पूर्वी राज्य ये तो नहीं कह सकते थे कि यह ऑक्सीजन केवल उनके लिये है। उन्होंने यह भी कहा कि झारखंड का कोई युवा देश के लिये विदेश से खेल कर मेडल लाता है तो वह केवल झारखंड की सफलता नहीं होती है। हम झारखंड को किसी बच्चे को खेल के प्रशिक्षण के लिये विदेश भेजते हैं तो वह भारत का बच्चा होता है।

प्रधानमंत्री ने विपक्ष की तीखी आलोचना करते हुये कहा कि इसके बावजूद देश में कुछ लोग तोड़ने का भाव पैदा करने के प्रयास में लगे रहते हैं। उन्होंने कहा, “देश को तोड़ने के लिये नये-नये नैरेटिव खोजना बंद कर दीजिए।”

Advertisement

प्रधानमंत्री ने कहा, “राष्ट्रपति जी ने अपने अभिभाषण में भारत के कोटि-कोटि जनों के सामर्थ्य को बहुत ही शानदार तरीके से प्रस्तुत किया है।” श्री मोदी ने इसके लिये राष्ट्रपति का अभिनंदन किया और उनके प्रति आभार व्यक्त किया। चर्चा पर प्रधानमंत्री के जबाव के बाद सदन ने सरकार द्वारा अभिभाषण पर धन्यवाद के लिये रखे गये प्रस्ताव को ध्वनिमति से पारित कर दिया।

नयी दिल्ली- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विपक्ष के कुछ लोगों की ओर से देश में क्षेत्र और जाति के आदि के आधार पर विभाजन पैदा करने वाली बातें फैलाए जाने के प्रयासों पर बुधवार को ‘पीड़ा’ जताते हुये कहा कि देश की विकास के लिये इस तरह की बातें बंद हों और सब मिलकर काम करें।

Advertisement

Related posts

जंग के मैदान में तब्दील हुआ दिल्ली-जयपुर हाई वे, फोर्स ने छोड़े आँसू गैस के गोले

Sayeed Pathan

देश में लॉकडाउन बढ़ेगा या नहीं, खुद ही समझ लीजिए पीएम के इशारों से

Sayeed Pathan

मरणोपरांत पद्म विभूषण से सम्मानित किए गए पूर्व रक्षा मंत्री मुलायम, राष्ट्रपति के हाथों अखिलेश यादव ने स्वीकार किया सम्मान,

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!