Advertisement
धर्म/आस्थालेखक के विचार

मोदी की गारंटियों में पेपर लीक की भी गारंटी!!

विरोधियों की ये क्या बात हुई। खामखां में नीट की परीक्षा में गड़बडि़यों का इतना शोर मचा दिया। उस पर तुर्रा ये कि ये एक परीक्षा में ही गड़बड़ी का मामला नहीं है। डबल इंजनिया राज में‚ न जाने कैसे हरेक परीक्षा में पेपर लीक हो जाता है! सिंपल है। पेपर लीक की गारंटी है। अब प्लीज यह बचकाना सवाल कोई न उठाए कि मोदी की गारंटियों में पेपर लीक की गारंटी तो थी ही नहीं।

पेपर लीक तो था कि नहीं‚ गारंटियों के भी पहले से। यूपी में पुलिस भर्ती पेपर लीक‚ लेखपाल भर्ती पेपर लीक‚ वगैरह‚ वगैरह। छूट गई होगी पेपर लीक की गारंटी‚ चुनाव की हड़बड़ी में। पेपर लीक की गारंटी भी नहीं दी‚ फिर भी गारंटी कर रहे हैं‚ यही तो मोदी की गारंटी है। जो नहीं भी दी हैं‚ वो गारंटियां भी पूरी करने की गारंटी! फिर भी पता नहीं, क्यों पब्लिक ने अब की दिल्ली वाले इंजन के नीचे बैसाखियों के जैक लगवा दिए।

Advertisement

खैर! नीट में तो पेपर लीक की बात ही गलत है। शिक्षा मंत्री ने साफ–साफ कह दिया है – पेपर लीक का तो कोई सबूत ही नहीं मिला है। सबूत नहीं‚ तो पेपर लीक कैसेॽ क्या हुआ कि गुजरात के किसी परीक्षा केंद्र से दूर–दूर से जाकर बच्चों के परीक्षा देने की और तीस–तीस लाख रुपए में अच्छे रैंक से पास कराने की गारंटी की खबरें आई हैं। क्या हुआ कि हरियाणा में किसी परीक्षा केंद्र से आधे दर्जन बच्चों के सौ फीसद नंबर लेकर टॉप करने की खबरें आई हैं। क्या हुआ कि बिहार से पर्चा ज्यों का त्यों एक दिन पहले मिल जाने की खबरें आई हैं। क्या हुआ कि सोलह सौ बच्चों को ग्रेस मार्क्स दिए जाने की बात मानी गई और वह भी दो–चार नंबर नहीं‚ सैकड़ों तक। क्या हुआ 67 बच्चों को पूरे में पूरे नंबर इसके बावजूद मिले हैं कि पूरे नंबर मिलना नामुमकिन है। पर यह सब तो कुछ परीक्षार्थियों को अच्छे नंबर दिलाने की गारंटी की बात हुई। गारंटियों के इस जमाने में‚ ऐसी छोटी–मोटी गारंटियां तो कोचिंग इंस्टीटूट वाले दे ही सकते हैं। फॉलो योर पीएम!

पर बाकी कुछ भी हो‚ इसमें पेपर लीक का सबूत कहां हैॽ अब पेपर लीक की जांच भी सरकार ही कराएगी‚ तो गड़बड़ी की शिकायत करने वाले क्या करेंगे ; मोदी जी की सरकार को बदनाम करने का षड्यंत्र!

Advertisement

व्यंग-राजेन्द्र शर्मा

(व्यंग्यकार वरिष्ठ पत्रकार और ‘लोकलहर’ के संपादक है।)

Advertisement

Related posts

यूँ ही नहीं है गणेश जी को दूर्वा प्रिय::पं.अतुल शास्त्री

Sayeed Pathan

मनोरथ प्राप्ति और आर्थिक तंगी से बाहर निकलने के लिए आप भी मनाइए देव दीपावली, ज्योतिषाचार्य पंडित अतुल शास्त्री

Sayeed Pathan

एनडीए के कंधे पर चढ़कर, बेताल की वापसी के मंसूबे साधती भाजपा

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!