अन्यजीवन शैलीब्रेकिंग न्यूज़

अवैध रेत उत्खनन पर चम्बल के एडीजी की सख़्ती ने, उत्खनन माफियाओं के उड़ाए होश

श्रीगोपाल गुप्ता की रिपोर्ट

गत जून माह में चम्बल रेंज में पदस्थ हुये आईजी पुलिस से पदोन्नत होकर एडीजी पुलिस बने डीपी गुप्ता भिण्ड में चल रहे अवैध रेत उत्खनन पर शुरु से ही सख्ती बरते हुये हैं! वे इसके लिए रेत माफिया और अपने विभाग के पुलिस अधिकारी और कर्मचारियों जो इस अवैध धंधे में लिप्त हैं को बक्सने के लिए तैयार नहीं हैं! अपने मार्गदर्शन में रेत के अवैध उत्खनन और माफियों को पकड़कर दाखिल-ऐ-हवालात में करने के अभियान में वे किसी प्रकार लापरवाही व ढील बर्दास्त करने के मूढ़ में नहीं है! और यही कारण है कि एडीजी पुलिस चम्बल रेंज डीपी गुप्ता के खौफ से गत दो महिनों से भिण्ड जिले में अवैध रेत उत्खनन का कारोबार दम तोड़ने लगा है, माफिया या तो भिण्ड से पलायन कर गये हैं अथवा भूमिगत हो गये हैं! मगर इसी बीच एडीजी पुलिस डीपी गुप्ता के नेतृत्व में चल रहे इस अभियान के तहत गत सोमवार को दरम्यानी रात 3 बजे लहार एसडीपीओ उपेन्द्र दीक्षित ने रेत से भरे पांच ट्रकों को पकड़ लिया साथ में मुखबिरी और रैकी कर ट्रकों को पास कराने वाले 10 आरोपियों को भी मय बोलोरो कार के धर दबोचा!ये कार्यवाही उन्होने आसपास के थाना क्षेत्र से पुलिस बल बुलाकर स्वयं पूर्ण कराई! यह ट्रक उमरी से रौन व मिहोना होते हुये उत्तर प्रदेश के जालौन जिले में जा रहे थे! इस पकड़-धकड़ से रेत माफियाओं और उनका इस अवैध धंधे में पैसों के लालच में साथ दे रहे कुछ पुलिसकर्मियोओ में हड़कम्प मच गया! आईजी पुलिस गुप्ता के पूर्व से ही सख्त आदेश हैं कि जिस थाना क्षेत्र में अवैध रेत उत्खनन अथवा ढोता हुआ मिलेगा तो संबंधित थाना प्रभारी के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जावेगी! मामला इस आदेश के तहत तो संबंधित थाने के विरुद्ध बनता ही है साथ में जनचर्चा है कि एडीजी पुलिस गुप्ता के समक्ष एक और गंभीर शिकायत सामने आई!

भिण्ड जिला मुख्यालय पर जनचर्चा है कि संबंधित थाना प्रभारी ने एसडीपीओ उपेन्द्र दीक्षित द्वारा पकड़े गए 10 आरोपियों में से तीन रसूखदार आरोपियों को भारी पैसा लेकर बदल दिया! एसडीपीओ ने सुबह पांच बजे सभी आरोपियों नाम, पते और पहचान का अपने पास प्रथक से रिकार्ड रखते हुए उन्हें थाने के हवाले किया था! मगर शाम चार बजे न्यायालय में पेश करते हुये थाना पुलिस ने तीन मूल आरोपियों को बदलकर अन्य तीन लोगों को आरोपी बना दिया! इस सूचना पर तात्काल एडीजी गुप्ता ने जांच के आदेश दिये हैं और जांच का जिम्मा भिण्ड एएसपी संजीव कंचन को सोंपा है और आदेश दिये हैं कि एक सप्ताह में जांच कर दोषियों को नाम बताएं!
सन् 1994 बैंच के आईपीएस डीपी गुप्ता को दो महिने पूर्व उस समय बड़ी अहसहज स्थिति का सामना करना पड़ा जब प्रदेश कांग्रेस के कद्दावर नेता व मप्र सरकार के काबीना मंत्री गोविंद सिंह ने उन पर भिण्ड में अवैध रेत उत्खनन के आरोप सार्वजनिक रुप से लगाये थे! भिण्ड की लहार विधानसभा के कांग्रेस के टिकट पर सातवीं दफा जीत दर्ज कराने वाले सिंह के इन आरोपों से प्रदेश की राजनीति में भूचाल ला दिया था! मगर अपनी सूझबूझ और धेर्य का परिचय देते हुए एडीजी पुलिस गुप्ता ने चम्बल रेंज के भिण्ड जिले में दुर्दांत और कुख्यात रेत माफिया की कमर तोड़ दी! नतिजा सामने है कि दो महिनों से अवैध रेत उत्खनन पर काफी कुछ अंकुश लग गया है और इस घटना पर भी उनके सख्त रवैये को देखते हुये रेत माफियाओं और भ्रष्ट पुलिसकर्मियों में हड़कम्प मची हुई है ।

इस पोस्ट से अगर किसी को कोई आपत्ति हो तो कृपया 24 घंटे के अंदर Email-missionsandesh.skn@gmail.com पर अपनी आपत्ति दर्ज कराएं जिससे खबर/पोस्ट/कंटेंट को हटाया या सुधार किया जा सके, इसके बाद संपादक/रिपोर्टर की कोई जिम्मेदारी नहीं होग

Related posts

सात मिनट में मौके पर पहुँची पीआरवी,दो पक्षों में हो रहे विवाद को कराया शांत

Sayeed Pathan

संतकबीनगर अल्पसंख्यक कल्याण कार्यालय के “कम्प्यूटर ऑपरेटर” बने “पुलिस उपनिरीक्षक”

Sayeed Pathan

बहराइच- जिलाधिकारी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ सम्पूर्ण समाधान दिवस,

Sayeed Pathan
error: Content is protected !!