अन्यउत्तर प्रदेशसंतकबीरनगरस्वास्थ्य

कांशीराम आवास परिसर में एड्स जारूकता शिविर का आयोजन कर, एचआइवी को दूर करने का लिया संकल्प

रहमत खान की रिपोर्ट :

– कांशीराम शहरी आवासीय योजना में मनाया गया एड्स दिवस

– एड्स संक्रमण के मुख्‍य कारणों के बारे में किया गया सचेत

संतकबीरनगर ।

जिला एड्स नियन्‍त्रण अधिकारी डॉ एस डी ओझा के निर्देशन में विश्‍व एड्स दिवस के अवसर पर जिला मुख्‍यालय के मान्‍यवर कांशीराम आवासीय योजना में स्थित अरबन पीएचसी में एड्स जागरुकता शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान लोगों को एड्स से बचने के लिए जागरुक किया गया। साथ ही उन्‍हें एड्स को दूर भगाने का संकल्‍प लिया गया।

वहां पर उपस्थित लोगों को सम्‍बोधित करते हुए जिला एड्स अधिकारी डॉ एस डी ओझा ने कहा कि एड्स को दूर भगाने के लिए हम सभी को मिलकर संकल्पित भाव से काम लेना होगा। हम एड्स के प्रति जागरुक हों। एड्स रोगियों को हेय दृष्टि से न देखें, क्‍योंकि गले लगाने, हाथ मिलाने, मच्‍छर काटने तथा एक ही शौचालय का प्रयोग करने से एड्स नहीं होता है। एड्स से बचने के लिए चार चीजों का ध्‍यान रखना चाहिए कि वे कतई न करें। न तो असुरक्षित यौन सम्‍बन्‍ध बनाए, संक्रमित सूई का प्रयोग न करें, एचआर्इ्रवी संक्रमित रक्‍त न चढ़वाएं, साथ ही अगर माता या संक्रमित पिता का बच्‍चा हो तो उसके जन्‍म को लेकर आवश्‍यक सावधानी बरतें।

कार्यक्रम के दौरान जिला कार्यक्रम समन्‍वयक अमित आनन्‍द, रामदास विश्‍वकर्मा, जिला लेखाकार आरएनटीसीपी एचआईवी विभाग , डॉ अजित नाथ तिवारी, शैलेन्‍द्र श्रीवास्‍तव, जाहिद, संजीव, सहयोगी एनजीओ एसजीवीएस के विजय ओझा, राकेश यादव, सहयोगी एनजीओ अहाना विवान आदि ने अपना महत्‍वपूर्ण योगदान दिया।

इन चार कारणों से होता है एचआईवी संक्रमण

एचआईवी संक्रमित व्‍यक्ति से असुरक्षित यौन सम्‍बन्‍ध,

एचआईवी संक्रमित रक्‍त चढ़ाने से ।

एचआईवी संक्रमित सूई के प्रयोग से।

एचआईवी संक्रमित गर्भवती महिला से उसके होने वाले बच्‍चों को

जिले में 156 मरीज एड्स से ग्रसित

जिला एड्स अधिकारी डॉ एस डी ओझा ने बताया कि जिले में एचआईवी एड्स से लगभग 156 मरीज ग्रसित हैं। इसमें से 27 एचआईवी संक्रमित गर्भवती महिलाओं की सेफ‍ डिलिवरी कराई गई है। इनमें से 25 बच्‍चों में एचआईवी निगेटिव बच्‍चे हैं।

एचआईवी मरीजों के लिए बनेगा एआरटी

जिले में एचआईवी मरीजों के इलाज के लिए अभी एआरटी सेण्‍टर नहीं है जहां पर उनका इलाज किया जा सके। इसके लिए मरीजों को बाहर जाना पड़ता है। लेकिन जिले में अब एआरटी सेण्‍टर स्‍थापित होगा, जिससे मरीजों को अन्‍य जिलो में जाने की आवश्‍यकता नहीं होगी।

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बताया एड्स को

कार्यक्रम के दौरान लखनऊ से आई नाटक मण्‍डली विविध सेवा केन्‍द्र लखनऊ के कलाकारों ने एड्स पर एक नुक्‍कड़ नाटक की प्रस्‍तुति की। इस दौरान उन्‍होने बताया कि किस तरह से एक व्‍यक्ति एड्स का शिकार होता है। साथ ही यह भी बताया कि एड्स छूआछूत से नहीं होता है, बल्कि असुरक्षित यौन सम्‍बन्‍ध तथा अन्‍य ऐसी चीजें जिसमें रक्‍त का सम्‍बन्‍ध होता है, उसके जरिए एड्स फैलता है। उन्‍होने यह भी बताया कि एक एड्स और एचआईवी से ग्रसित व्‍यक्ति से छूआछूत का भेदभाव नहीं करना चाहिए।

इस पोस्ट से अगर किसी को कोई आपत्ति हो तो कृपया 24 घंटे के अंदर Email-missionsandesh.skn@gmail.com पर अपनी आपत्ति दर्ज कराएं जिससे खबर/पोस्ट/कंटेंट को हटाया या सुधार किया जा सके, इसके बाद संपादक/रिपोर्टर की कोई जिम्मेदारी नहीं होग

Related posts

एसएसपी के निर्देशन में सीओ और थाना प्रभारी जसवंतनगर ने ग्रामवासियों को किया जागरूक

Sayeed Pathan

भयमुक्त समाज और महिला अपराध पर अंकुश लगाना हमारी पहली प्राथमिकता-:नवागत पुलिस अधीक्षक*

Sayeed Pathan

ग्राम छाछापार में हुए बुजुर्ग की हत्या मामले का पर्दाफाश, हत्या में शामिल आलाकत्ल रॉड के साथ अभियुक्त गिरफ्तार

Sayeed Pathan
error: Content is protected !!