अन्यउत्तर प्रदेशबस्ती

बकाया भुकतान को लेकर,अनिश्चित कालीन धरने पर बैठे, बस्ती चीनी मिल श्रमिक

बस्ती से अनिल शुक्ला की रिपोर्ट

बस्ती चीनी मिल के मौसमी श्रमिक बकाया भुगतान को लेकर शास्त्री चौक पर धरने पर बैठे हुए हैं। धरने पर बैठे मजदूरों का कहना है की फेनिल ग्रुप हम मजदूरों की  मजदूरी हड़प लेना चाहता हैं। मजदूरों के धरने की जानकारी जब कॉंग्रेस कार्यकर्ताओं को हुई तो वह भी अपने प्रदेश सचिव विश्व विजय सिंह व जिलाध्यक्ष अंकुर वर्मा,  राना दिनेश प्रताप सिंह, आदित्य तिवारी सहित दर्जनों कांग्रेस कार्यकर्ता मजदूरों के समर्थन में धरने पर बैठ गए। इसके पहले भी कई बार श्रमिक अपनी मांगों को लेकर दे चुके हैं लेकिन केवल मजदूरी के बजाय इन्हें आश्वासन ही मिला है। धरने की सूचना पर धरना स्थल पर पहुँचे एसडीएम सदर ने बातचीत कर धरने को खत्म कराने का प्रयास किया। लेकिन मजदूर धरना खत्म करने को तैयार नहीं हुए।

मौजूदा सरकार की कोशिशों के बावजूद राजनीतिक शिथिलता के चलते स्थानीय समस्याओं का हल निकलना टेढ़ी खीर हो गया है। लोक सभा चुनाव में सत्तारूढ़ दल के नेताओं ने बस्ती चीनी  मिल के सीजनल श्रमिको की समस्याओं को हल करने का वादा किया था पर अफसोस है कि यह हो न सका। फेनिल ग्रुप के स्वामित्व में चल रही बस्ती सुगर मिल के श्रमिक भुखमरी के कगार पर हैं। हालत ये है कि पाई पाई को मोहताज मजदूर बकाया भुगतान को लेकर धरना प्रदर्शन करने को मजबूर हैं। पूर्व में जिला प्रशासन ने आंशिक कोशिश की थी लेकिन कोशिशें परवान न चढ़ सकीं। सोमवार को परेशान मजदूर शास्त्री चौक पर धरने पर बैठ गए हैं। धरने पर बैठे मजदूरों का कहना है की फेनिल ग्रुप हम मजदूरों की  मजदूरी हड़प लेना चाहते हैं। जाहिर है कि यह एक राजनीतिक मुद्दा बना था। मजदूरों के धरने की जानकारी जब कॉंग्रेस कार्यकर्ताओं को हुई तो वह भी अपने प्रदेश सचिव विश्व विजय सिंह व जिलाध्यक्ष अंकुर वर्मा सहित दर्जनों कार्यकर्ता मजदूरों के समर्थन में धरने पर बैठ गए। इसके पहले भी कई बार श्रमिक अपनी मांगों को लेकर दे चुके हैं लेकिन केवल मजदूरी के बजाय इन्हें आश्वासन ही मिला है। अब देखना यह है कि इन मजदूरों को बकाया मजदूरी का भुगतान क्या इस धरने के बाद हो सकेगा।

इस पोस्ट से अगर किसी को कोई आपत्ति हो तो कृपया 24 घंटे के अंदर Email-missionsandesh.skn@gmail.com पर अपनी आपत्ति दर्ज कराएं जिससे खबर/पोस्ट/कंटेंट को हटाया या सुधार किया जा सके, इसके बाद संपादक/रिपोर्टर की कोई जिम्मेदारी नहीं होग

Related posts

70 रुपए की लालच देकर मासूम बच्ची को बनाया दरिंदगी का शिकार, मौके पर हालात देख सिहर गए लोग

Sayeed Pathan

घर में खाने के लाले,इलाज के लिए पैसे नहीं,बेहाल COVID19 अस्पताल के कर्मचारियों ने पीजीआई के प्रशासनिक भवन पर किया प्रदर्शन

Sayeed Pathan

विवादों में त्रिपुरा पुलिस: हिंसा की घटनाएं कवर करने गईं 2 महिला पत्रकारों को हिरासत में लिया, VHP की FIR में है दोनों का नाम

Sayeed Pathan
error: Content is protected !!