अन्यअपराधदिल्ली एन सी आर

निर्भया के चारो दोषियों को फाँसी की सज़ा की तैयारी शुरू,एक ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की पुनर्विचार याचिका

नई दिल्ली :: तिहाड़ जेल में निर्भया के चारों दोषियों को फांसी देने की तैयारी शुरू हो चुकी है. सूत्रों के हवाले से यह खबर आई है कि दोषी पवन को मंडोली जेल से तिहाड़ की जेल नंबर 2 में शिफ्ट किया गया है. इसी जेल में दोषी अक्षय और मुकेश भी बंद हैं, जबकि तिहाड़ की जेल नंबर 4 में विनय शर्मा भी बंद है. सभी को अलग-अलग सेल में रखा गया है और सीसीटीवी कैमरों से मॉनिटरिंग की जा रही है. जेल नंबर 3 में फांसी की तैयारियां हो रही है, फांसी वाली जगह की साफ सफाई और डमी ट्रायल भी कराया जा रहा है. जेल नंबर 3 में ही फांसी लगाने का चबूतरा और तख्ता है. इस बीच निर्भया के दोषियों में से एक अक्षय कुमार सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की है. अक्षय को ट्रायल कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई थी. इसकी सजा को दिल्ली हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट ने बरकरार रखा था.
निर्भया गैंगरेप केस के दोषी पवन को तिहाड़ जेल किया गया शिफ्ट, क्या हो रही है फांसी की तैयारी?

अक्षय ने पुनर्विचार याचिका में सुप्रीम कोर्ट से फांसी की सजा पर फिर से विचार करने की मांग की है. दोषी ने सुप्रीम कोर्ट से पुनर्विचार याचिका दाखिल करने में हुई देरी के लिए भी माफी की बात कही है. याचिका में अक्षय ने अपील की है कि दिल्ली-NCR में वायु प्रदूषण खतरनाक स्तर पर है. दिल्ली गैस चेंबर में तब्दील हो चुकी है. साथ ही यहां का पानी भी जहरीला हो चुका है. ऐसे में जब खराब हवा और पानी के चलते उम्र पहले से ही कम से कम होती जा रही है फिर फांसी की सजा की जरूरत क्यों है?

बिहार के बक्सर जेल को मिला फांसी के फंदे बनाने का आदेश, निर्भया के दोषियों को मिल सकती है फांसी
बता दें कि 9 जुलाई 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया गैंगरेप मामले में तीन दोषियों की पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी थी. चौथे आरोपी अक्षय ने अब तक पुनर्विचार याचिका दाखिल नहीं की थी. कोर्ट ने कहा था कि सारे मैटेरियल पर गौर करने के बाद हम पाते हैं कि पुनर्विचार करने का कोई आधार नहीं है. याचिका में कोई मेरिट नहीं है.

सुप्रीम कोर्ट ने विनय, मुकेश और पवन की पुनर्विचार याचिका पर फैसला सुनाया था. इससे पहले अदालत ने 4 मई 2018 को सुनवाई खत्म कर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. 5 मई 2017 को अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने चारों दोषियों की फांसी की सजा को बरकरार रखा था.

साभार NDTV इण्डिया

इस पोस्ट से अगर किसी को कोई आपत्ति हो तो कृपया 24 घंटे के अंदर Email-missionsandesh.skn@gmail.com पर अपनी आपत्ति दर्ज कराएं जिससे खबर/पोस्ट/कंटेंट को हटाया या सुधार किया जा सके, इसके बाद संपादक/रिपोर्टर की कोई जिम्मेदारी नहीं होग

Related posts

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव आचार संहिता/धारा 144 सीआरपीसी/कोविड-19 के नियमों का उल्लघंन करने के संबंध में 11 अभियोग पंजीकृत

Sayeed Pathan

13 लाख ₹ की 11280 बोतल अंग्रेजी शराब लदे वाहन को, रामस्नेही पुलिस ने किया जप्त

Sayeed Pathan

राहुल गांधी ने हारवर्ड प्रोफेसर से पूछा,भैया भारत में कोरोना वैक्सीन कब आएगी,,प्रोफेसर ने दिया चिंतित होने वाला जवाब

Sayeed Pathan
error: Content is protected !!