अपराधटॉप न्यूज़राष्ट्रीय

इंदौर से फरार जीतू सोनी का पता बताने वाले को 30 हजार रुपये का इनाम, इनाम की राशी बढ़ सकती है

इंदौर। वेश्यावृत्ति व मानव तस्करी समेत कई मामलों में वांछित इंदौर के मीडिया कारोबारी जीतू सोनी के लखनऊ के रास्ते नेपाल भाग जाने का शक है। जांच में पता चला है कि सोनी के लिए मध्य प्रदेश के पुलिसकर्मी ही छापे की सूचना लीक कर रहे थे। उन्होंने यह भी बता दिया था कि पुलिस राज्य के बहुचर्चित हनीट्रैप कांड से जुड़े वीडियो फुटेज और होटल माय होम में आने-जाने वालों के बारे में जानना चाहती है। इससे अलर्ट हुए जीतू ने भागने से पहले होटल के कंप्यूटर की हार्ड डिस्क और कैमरों के डीवीआर गायब कर दिए।*

जीतू सोनी के खिलाफ निजी तौर पर अभी तक 25 से ज्यादा व अन्य आरोपितों के साथ संयुक्त रूप से 57 केस दर्ज हो चुके हैं। इनमें मानव तस्करी, वेश्यावृत्ति, लूट, धोखाधड़ी और आईटी एक्ट के प्रकरण हैं। उसकी गिरफ्तारी पर 30 हजार का इनाम घोषित हो चुका और यह एक लाख रुपए करने के लिए शासन को पत्र लिखा गया है।

*भेदिए को तलाश रहे अफसर*
जांच में शामिल अफसर जीतू के साथ पुलिस में छिपे भेदिए को भी ढूंढ रहे हैं। उनका कहना है कि इंदौर की एसएसपी रचिवर्धन मिश्र ने पुलिस कंट्रोल रूम पर बल बुलाया तो उन्हें यह नहीं बताया गया था कि छापा कहां मारना है। फिर भी जीतू सोनी के पास 8.30 बजे सूचना पहुंच गई कि होटल पर कार्रवाई की तैयारी हो चुकी है।

एसएसपी ने बगैर बताए अफसरों को रेसीडेंसी कोठी पर बुलाया, तब भी जीतू को पता चल गया। उसे यह भी जानकारी थी कि छापे में हनीट्रैप से जुड़े वीडियो और फोटो ढूंढे जाएंगे। होटल में कौन-कौन आता है। लड़कियां डांस करती हैं और लोग नोट लुटाते हैं इसके वीडियो भी जांचे जाएंगे। लिहाजा जीतू ने कैमरों के डीवीआर भी गायब कर दिए। अफसर अब पुलिस में छिपे भेदिए को तलाश रहे हैं।

*बिल्डर की मदद से भागा*
पुलिस को जानकारी मिली है कि छापे के दो दिन बाद भी जीतू निपानिया क्षेत्र की एक टाउनशिप में ही था। उसके बेटे अमित का दोस्त उसकी मदद कर रहा था। जैसे ही दूसरे थानों में केस दर्ज होने की जानकारी मिली, बिल्डर की मदद से जीतू कार से लखनऊ और फिर नेपाल भाग गया। पुलिस बिल्डर के घर पहुंची तो वह कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व प्रभावशाली मंत्री के पास पहुंच गया। पुलिस उससे पूछताछ करने से भी घबरा रही है।

*होटल में बंधक बंगाल की सोनिया ने खाया था जहर*
जीतू सोनी के होटल में बंधक युवतियां आत्महत्या भी कर चुकी हैं। पुलिस को छापे में उनका रिकॉर्ड मिला है। पलासिया थाना टीआई विनोद दीक्षित के मुताबिक पश्चिम बंगाल की सोनिया ने वर्ष 2011 में जहर खा लिया था। जीतू ने दबाव-प्रभाव में मामला दबा दिया। इसी तरह वर्ष 2017 में नेहा मित्रा ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। इस मामले को भी दबा दिया गया था। पोस्टमार्टम के दौरान जीतू ने बाउंसर तैनात कर परिजन को बयान देने से मना कर दिया था। पुलिस ने दोनों केस की जांच फिर शुरू की है।

Balram Gangwani

इस पोस्ट से अगर किसी को कोई आपत्ति हो तो कृपया 24 घंटे के अंदर Email-missionsandesh.skn@gmail.com पर अपनी आपत्ति दर्ज कराएं जिससे खबर/पोस्ट/कंटेंट को हटाया या सुधार किया जा सके, इसके बाद संपादक/रिपोर्टर की कोई जिम्मेदारी नहीं होग

Related posts

शांतिभंग में 8 अभियुक्तों का हुआ चालान

Sayeed Pathan

तालिबान नेता शेर मोहम्मद ने कहा- भारत बहुत अहम देश, अफगानिस्तान भारत के साथ करीबी और मजबूत रिश्ते चाहता है

Sayeed Pathan

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) और यूपी एटीएस ने पकड़े 06 आतंकी, एक निकला पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!