अंतरराष्ट्रीय

कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर दुनियां ‘प्रलयकारी नैतिक भूल’ करने की कगार पर- WHO

  • ‘कोवैक्स’ कार्यक्रम के लिए जोखिम
  • HIV, H1N1 जैसी गलती दोहराने से बचें
  • अमीर देशों को मिली ज्यादा खुराकें

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख डॉ. टेड्रोस अधनोम घ्रेबेसिस का कहना है कि कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर दुनिया ‘प्रलयकारी नैतिक भूल’ करने की कगार पर खड़ी है. देशों और वैक्सीन कंपनियों को दुनिया के ज्यादा से ज्यादा क्षेत्रों तक टीका पहुंचाने पर ध्यान देना चाहिए.

कोवैक्स’ कार्यक्रम के लिए जोखिम

WHO की कार्यकारिणी की वार्षिक बैठक की शुरुआत में कहा गया कि दुनिया के सभी देशों के बीच बराबरी से कोरोना वायरस वैक्सीन वितरण के लिए बनाए गए ‘कोवैक्स’ कार्यक्रम को लेकर ‘गंभीर जोखिम’ बना हुआ है. इस कार्यक्रम को अगले महीने शुरू किया जाना है.

बनेगा बिखरा बाजार

घ्रेबेसिस ने कहा कि कोरोना वायरस वैक्सीन की खरीद को लेकर 44 द्विपक्षीय सौदे पिछले साल ही हो गए थे. इस साल भी अभी तक 12 सौदे हो चुके हैं. इस तरह के सौदों से ‘कोवैक्स’ कार्यक्रम के तहत की जाने वाली डिलिवरी में देरी होगी और यह उसी तरह का बिखरा हुआ बाजार बना देगा जिसे दरकिनार करने के लिए कोवैक्स कार्यक्रम को तैयार किया गया था. ऐसा बाजार जहां सामाजिक और आर्थिक बाधाएं जारी रहेंगी.

HIV, H1N1 जैसी गलती दोहराने से बचें

उन्होंने कहा कि ‘पहले मैं-पहले मैं’ की यह सोच दुनिया के सबसे गरीब देशों को जोखिम में डाल देगी. ‘अंतत: इस तरह के तौर-तरीके महामारी को लंबे समय तक बनाए रखेंगे.’’ देशों को वही गलती दोहराने से बचना चाहिए जो HIV और H1N1 महामारियों के दौरान की गई.

Advertisement

Related posts

दो साल के अंदर ही खत्म हो जाएगी कोरोना महामारी-: WHO चीफ

Mission Sandesh

एयरपोर्ट पर महिला यात्रियों के “प्राइवेट पार्ट” की सघन जांच से भड़का ऑस्ट्रेलिया, विदेश मंत्री ने जताई कड़ी आपत्ति

Sayeed Pathan

कोरोना वायरस से अमेरिका में 1169 की मौत,पूरी दुनियां में मरने वालों की संख्या हुई 51,718

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो