टॉप न्यूज़ दिल्ली एन सी आर राजनीति

बिना कांग्रेस के मोदी सरकार के खिलाफ सबसे बड़ी मोर्चे बंदी ! डेढ़ दर्जन नेताओं से मिलेंगे पवार

  • बंगाल चुनाव में बीजेपी की हार के बाद विपक्षी दल के नेताओं के बीच हलचल तेज
  • कांग्रेस की ओर से आज की बैठक को लेकर अब तक कुछ भी नहीं कहा गया
  • विपक्ष का नेता कौन होगा जिसके नाम पर सभी क्षेत्रीय दल सहमत हो जाए
नई दिल्ली । यह कोई पहला मौका नहीं होगा जब विपक्षी दलों की ओर से भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ मोर्चेबंदी की तैयारी हो रही है। 2024 लोकसभा चुनाव अभी दूर है लेकिन उससे पहले एक बार फिर विपक्षी दल एक जुट होने की कोशिश कर रहे हैं। चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर विपक्षी दलों को एकजुट करने की कोशिश में जुट गए हैं और इसके सूत्रधार बने हैं पूर्व केंद्रीय मंत्री और हाल ही में टीएमसी में शामिल हुए यशवंत सिन्हा। इसी कोशिश के तहत आज शरद पवार के आवास पर तीसरा मोर्चा के नेता जुटेंगे लेकिन बड़ा सवाल यह है कि बिना कांग्रेस विपक्ष कितना मजबूत।

राष्ट्र मंच की ताकत बगैर कांग्रेस कितनी

बंगाल चुनाव में बीजेपी की हार के बाद विपक्षी दलों के नेताओं के बीच हलचल तेज हुई है। ममता बनर्जी ने जीत के बाद विपक्षी दलों के नेताओं को एक साथ आने की बात कही। शरद पवार के आवास पर आज होने वाली बैठक पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा के राष्ट्र मंच के तहत बुलाई गई है। हाल ही टीएमसी में शामिल हुए यशवंत सिन्हा ने मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ राष्ट्र मंच का गठन किया था लेकिन बड़ा सवाल है कि बिना कांग्रेस राष्ट्र मंच की ताकत बढ़ पाएगी।

पूर्व में राष्ट्र मंच की बैठक में कुछ कांग्रेसी नेता शामिल हो चुके हैं लेकिन आज होने वाली बैठक में कोई कांग्रेसी नेता शामिल नहीं होगा। शरद पवार के नेतृत्व में एक बार फिर तीसरा मोर्चा खड़े होने की कोशिश कर रहा है। कांग्रेस की ओर से इस बैठक को लेकर खुलकर अब तक कुछ भी नहीं कहा गया है। कांग्रेस के किसी बड़े नेता का बयान नहीं सामने आया है और कोई नेता आज की बैठक में शामिल भी नहीं होगा। यानी आज की बैठक भले ही राष्ट्र मंच की है लेकिन इसमें सिर्फ और सिर्फ तीसरा मोर्चा के ही नेता शामिल होंगे।

मैं अभी कोई भविष्यवाणी नहीं कर सकता लेकिन यह निश्चित है कि 2024 के चुनाव में गंभीर चुनौती पेश करेंगे। जहां तक नेता कौन होगा इस सवाल में पड़ना नहीं चाहता। 1977 में किसने अगुवाई की… कौन था प्रधानमंत्री का कैंडिडेट। यदि इतिहास उठाकर देखेंगे तो पाएंगे कि कई मौकों पर यहां तक की बीजेपी ने भी कई बार पीएम और सीएम का चेहरा कौन होगा चुनाव पूर्व नहीं निर्धारित किया। देखिए 2024 तक क्या होता है अभी तो 3 साल बाकी है
पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा

 

विपक्ष के सामने एक बार फिर वही सवाल
चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर विपक्षी दलों के नेताओं को एकजुट करने में तो जुट गए हैं लेकिन कई ऐसे सवाल हैं जिनका जवाब फिलहाल नहीं है। यह जरूर है कि अभी इसकी शुरुआत हुई है और आगे चलकर कोई बात बन जाए। यशवंत सिन्हा जैसे पुराने नेता को भी यह बात अच्छी तरह पता होगी कि मोदी विरोधी नीतियों के लिए गठित राष्ट्र मंच के सामने ढेरों सवाल हैं। तीसरा मोर्चा एक बार फिर आकार लेता है तो उसके सामने एक बार फिर वही सवाल होंगे-

Advertisement
SourceNbt

Related posts

पटना के एसपी विनय तिवारी को BMC ने कवारेन्टीन से किया आज़ाद

Sayeed Pathan

कोरोना की दवा कोरोनिल पर मंथन जारी,पतंजलि ने मंत्रालय को सौंपा रिसर्च पेपर

Sayeed Pathan

सप्ताह भर में औंधे मुंह गिरे प्याज के भाव, लोगों को मिली राहत

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो