अंतरराष्ट्रीय अन्य

जानिए 7 देशों के खतरनाक कानून::भारत में पति को रेप का अधिकार, और अमेरिका में मर्दों को रेप कर लड़कियों को मां बनाने का अधिकार

इजराइल की एक महिला शीरा इसाकोव पर सितंबर 1920 में उसके पति ने 20 बार धारदार चाकू से जानलेवा हमला किया, जिसके बाद शीरा को हेलीकॉप्टर से अस्पताल ले जाया गया था। डॉक्टरों ने कहा था कि महिला की जिंदगी अब भगवान के ही भरोसे है। अपनी हिम्मत के बल पर शीरा ने भगवान का भरोसा जीत लिया और मौत को मात दे दी।

इसके 14 महीने बाद कोर्ट ने घरेलू हिंसा के मामले में कोई मजबूत कानून नहीं होने की वजह से उसके आरोपी पति को निर्दोष बता दिया। बाद में इस जजमेंट को लेकर पीड़ित महिला ने कहा,​‘मुझे शरीर में 20 बार चाकू धंसने पर भी उतना दर्द नहीं हुआ था, जितना कोर्ट के इस फैसले को सुनते हुए हुआ।’

यह कहानी हम आपको इसलिए सुना रहे थे कि 2021 के मॉडर्न एरा में इजराइल जैसे संपन्न देश में भी ऐसे कानून हैं जो एक महिला को 20 बार चाकू से घोंपे जाने के बावजूद उसके पति को निर्दोष बताते हैं।

आप यकीन करें या न करें, इजराइल अकेला ऐसा देश नहीं। भारत समेत कई बड़े देशों में ऐसे महिला विरोधी कानून आज भी लागू हैं…

अब जानिए दुनिया के किन 7 देशों में और कौन से कानून एंटी विमेन हैं

भारत: पति को रेप की आजादी

भारत समेत दुनिया के 49 देश ऐसे हैं, जहां पत्नी से रेप करने वाले पति को समाज के साथ-साथ कानून भी दोषी नहीं मानता है। भारत में IPC की धारा 375 और 376 के तहत महिलाओं के साथ रेप किए जाने को जघन्य अपराध माना जाता है। इस तरह के मामलों में उम्र कैद या मौत की सजी दी जाती है, लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि भारत में अपनी पत्नी के साथ कोई रेप करे तो इस कानून के तहत कोई सजा तो छोड़िए कार्रवाई तक नहीं होती है।

अमेरिका: मर्दों को रेप कर लड़कियों को मां बनाने का अधिकार

अमेरिका में रेप के बाद रेपिस्ट पैरेंटल राइट के तहत पीड़िता से बच्चे की मांग कर सकता है। इस कानून की वजह से अमेरिका के मैरीलैंड, अलबामा, मिसिसिपि, मिनेसोटा, नॉर्थ डकोटा, न्यू मैक्सिको में हजारों रेप पीड़िता न चाहते हुए भी रेपिस्ट के बच्चे की मां बनने के लिए मजबूर हैं। अमेरिका के बाकी राज्यों में रेपिस्ट को बच्चे का अधिकार मानने से रोकने का कानून है, लेकिन इन राज्यों में नहीं है। हर साल अमेरिका के इन राज्यों में 17 हजार से 32 हजार महिलाओं से रेप होता है, जिसमें 32% से 35% मामलों में रेपिस्ट अपने रेप से पैदा संतान को अदालत के जरिए मांगता है।

Advertisement

Related posts

दिसंबर 15 और 01 जनवरी से खुलेंगे, इन राज्यों के स्कूल और हॉस्टल, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर

Sayeed Pathan

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने आंगनबाड़ी भवन का किया शिलान्यास और भूमिपूजन

Sayeed Pathan

हाईकोर्ट का अहम फैसला, मिड-डे मील रसोईयों को सरकार करे न्यूनतम वेतन का भुकतान

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!