टॉप न्यूज़ दिल्ली एन सी आर राष्ट्रीय

द्रौपदी मुर्मू ने ली राष्ट्रपति पद की शपथ, बोलीं-आजाद भारत में पैदा होने वाली मैं पहली राष्ट्रपति बन गईं हूं, अपने भाषण उन्होंने क्या कहा पढें पूरी खबर

Droupadi Murmu 15th President of India । भारत गणराज्य की नई राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने शपथ ले ली है। भारत के मुख्य न्यायधीश एनवी रमणा ने मुर्मू को शपथ दिलवाई। शपथ लेने के बाद द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि आजाद भारत में पैदा होने वाली मैं पहली राष्ट्रपति बन गईं हूं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, शपथ ग्रहण समारोह के बाद उन्हें 21 तोपों की सलामी दी गई। राष्ट्रपति के रूप में चुने जाने के साथ, मुर्मू देश की पहली आदिवासी राष्ट्रपति बन गई हैं।

सुबह 10.14 बजे, भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमणा ने द्रौपदी मुर्मू को पद की शपथ दिलाई । सुबह 10.18 बजे, नई राष्ट्रपति शपथ रजिस्टर पर हस्ताक्षर किये। समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राज्य के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, राजनयिक मिशनों के प्रमुख, संसद सदस्य, भारत सरकार के नागरिक और सैन्य अधिकारी शामिल थे ।

सुबह 10 बजे शपथ ग्रहण समारोह शुरू होते ही संसद टीवी पर इसका सीधा प्रसारण हुआ । द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रपति के रूप में निर्वाचित होने वाली दूसरी महिला हैं। उनसे पहले यूपीए शासन के समय प्रतिभा देवी सिंह पाटिल राष्ट्रपति पद के लिए निर्वाचित हुईं थीं।

पढ़िए शपथ ग्रहण के बाद राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का भाषण

“मैं जिस जगह से आती हूं, वहां प्रारंभिक शिक्षा भी सपना होता है। गरीब, पिछड़े मुझे अपना प्रतिबिंब दिखाते हैं। मैं भारत के युवाओं और महिलाओं को विश्वास दिलाती हूं कि इस पद पर काम करते हुए उनका हित मेरे लिए सर्वोपरि रहेगा।

संसद में मेरी मौजूदगी भारतीयों की आशाओं और अधिकारों का प्रतीक है। मैं सभी के प्रति आभार व्यक्त करती हूं। आपका भरोसा और समर्थन मुझे नई जिम्मेदारी संभालने का बल दे रहा है।

मैं पहली ऐसी राष्ट्रपति हूं जो आजाद भारत में जन्मी। हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने भारतीयों से जो उम्मीदें लगाई थीं, उन्हें पूरा करने का मैं पूरा प्रयास करूंगी।

राष्ट्रपति के पद तक पहुंचना मेरी निजी उपलब्धि नहीं है, यह देश के सभी गरीबों की उपलब्धि है। मेरा नॉमिनेशन इस बात का सबूत है कि भारत में गरीब न केवल सपने देख सकता है, बल्कि उन सपनों को पूरा भी कर सकता है।

इससे पहले वो राष्ट्रपति भवन पहुंचीं, यहां उन्होंने रामनाथ कोविंद और उनकी पत्नी से मुलाकात की। दोनों ने मुर्मू को बधाई दी। राष्ट्रपति भवन के लिए निकलने से पहले राजघाट पहुंचकर उन्होंने महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी थी।

 

वैसे तो द्रौपदी मुर्मू के करीबियों की लिस्ट हजारों में है। मई 2015 में जब उन्होंने गवर्नर पद की शपथ ली थी तब करीब 3 हजार लोग झारखंड के रांची और उड़ीसा के मयूरभंज जिले से द्रौपदी के खास मेहमान बनकर गए थे।

 

कौन-कौन हैं खास मेहमान
मुर्मू के मेहमानों में उनके भाई तरणीसेन टुडू और भाभी सुकरी टुडू उपरबेड़ा गांव से दिल्ली पहुंच चुके हैं। इनके अलावा बेटी इतिश्री, दामाद, उनकी दोनों नातिन। बड़ी नातिन ढाई साल की है, तो दूसरी अभी ढाई महीने की पूरी ही होने वाली है। उसके अलावा उनके खास मेहमानों में शामिल हैं, उनकी दोस्त-धानकी मुर्मू। धानकी भुवनेश्वर में उनके साथ कॉलेज में पढ़ती थीं। द्रौपदी की यह दोस्त उनके हर दुख-सुख में साथ रहती हैं।

द्रौपदी के मौजूदा निवास स्थान रायरंगपुर के BJP के कार्यकर्ताओं में बिकास महतो और उनके साथ 4 और लोग समारोह में शामिल होने के लिए दिल्ली पहुंच चुके हैं। इसके अलावा जिले के विधायक और कुछ उनके गांव पहाड़पुर और उपरवाड़ा राजनीतिक लोग भी शामिल हैं।

25 जुलाई को शपथ लेने वालीं 10वीं प्रेसिडेंट होंगी
मुर्मू देश की 10वीं राष्ट्रपति होंगी जो 25 जुलाई को शपथ ले रही हैं। भारत के छठे राष्ट्रपति नीलम संजीव रेड्डी ने 25 जुलाई 1977 को शपथ ली थी। तब से 25 जुलाई को ज्ञानी जैल सिंह, आर. वेंकटरमण, शंकर दयाल शर्मा, के.आर. नारायणन, ए.पी.जे. अब्दुल कलाम, प्रतिभा पाटिल, प्रणब मुखर्जी और रामनाथ कोविंद ने इसी तारीख को राष्ट्रपति पद की शपथ ली थी।

Advertisement

Related posts

दिल्ली में कोरोना मरीज़ों की संख्या 2500 के पार, आगे बढ़ सकता है लॉकडाउन

Sayeed Pathan

यूपीएससी टॉपर और जम्मू कश्मीर के पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फ़ैसल ने बनाई राजनीतिक पार्टी

Sayeed Pathan

ठंड से ठिठुरते लोगों को “दी हेल्प एनजीओ” ने ओढ़ाए कंबल कंबल,

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!