Advertisement
अपराधउतर प्रदेशटॉप न्यूज़लखनऊ

लखनऊ के अदालत परिसर में खूंखार अपराधी ​​जीवा की, पुलिस अभिरक्षा में गोली मार कर हत्या, वकील की वेश में आये थे हमलावर

लखनऊ- राजधानी लखनऊ की जिला अदालत परिसर में बुधवार दिनदहाड़े एक दुस्साहिक वारदात में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुज़फ्फरनगर के खूंखार अपराधी संजीव महेश्वरी उर्फ ​​जीवा की पुलिस अभिरक्षा में गोली मार कर हत्या कर दी गयी। हमलावर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना पर गंभीर रूख अपनाते हुये तीन सदस्यीय विशेष जांच कमेटी (एसआईटी) का गठन किया है। अपर पुलिस महानिदेशक टेक्निकल मोहित अग्रवाल, नीलब्ज़ा चौधरी और अयोध्या के पुलिस महानिरीक्षक प्रवीण कुमार एसआईटी के सदस्य होंगे। जांच कमेटी को एक सप्ताह में जाँच पूरी करने के निर्देश दिये गये हैं।

Advertisement

पुलिस सूत्रों ने बताया कि वकील के वेश में आये हमलावर ने जीवा पर पीछे से एक के बाद एक कई गोलियां दागी जब वह किसी मामले में पेशी पर आया था। हमलावर ने पांच से छह राउंड गोलियां चलाईं। लहूलुहान जीवा को नजदीक के अस्पताल में ले जाया गया जहां डाक्टरों ने उपचार के दौरान उसे मृत घोषित कर दिया। हमलावर की पहचान जौनपुर जिले के केराकत क्षेत्र निवासी विजय यादव के तौर पर की गयी है। हत्या के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल सका है।

इस गोलीबारी में एक डेढ़ वर्षीय बालिका और पुलिसकर्मी भी घायल हो गये। दुस्साहिक वारदात के बाद अदालत परिसर में हड़कंप मच गया। कचहरी परिसर में मौजूद वकीलों ने घटना के प्रति विरोध जताते हुये खुद की सुरक्षा की मांग की और धरना दिया।

Advertisement

सूत्रों के मुताबिक घायल बालिका लक्ष्मी अपनी मां के साथ न्यायालय आई थी जहां उसके पिता की जमानत अर्जी पर सुनवाई होनी थी । इस गोलीबारी में सिपाही लाल मोहम्मद के पैर में गोली लगी है। दोनो की हालत खतरे से बाहर बतायी गयी है।

सूत्रों ने बताया कि मुजफ्फरनगर जिले के निवासी जीवा की गिनती पश्चिमी उत्तर प्रदेश के खूंखार गैंगस्टर में होती थी। उस पर पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में करीब दो दर्जन मुकदमे लंबित हैं। जीवा के ताल्लुकात माफिया से नेता बने मुख्तार अंसारी से थे। जीवा फिलहाल लखनऊ की जेल में बंद था। हाल ही में प्रशासन द्वारा उसकी संपत्ति भी कुर्क की गई थी।

Advertisement

शुरुआती दिनों में वह एक दवाखाना संचालक के यहां कंपाउंडर की नौकरी करता था। इसी नौकरी के दौरान जीवा ने अपने मालिक यानी दवाखाना संचालक को ही अगवा कर लिया था। घटना के बाद उसने 90 के दशक में कोलकाता के एक कारोबारी के बेटे का भी अपहरण किया और फिरौती दो करोड़ की मांगी थी। इसके बाद जीवा हरिद्वार की नाजिम गैंग में घुसा और फिर सतेंद्र बरनाला के साथ जुड़ा लेकिन उसके अंदर अपनी गैंग बनाने की तड़प थी।

इसके बाद उसका नाम 10 फरवरी 1997 को हुई भाजपा के कद्दावर नेता ब्रम्ह दत्त द्विवेदी की हत्या में सामने आया। जिसमें बाद में संजीव जीवा को उम्रकैद की सजा सुनाई गई थी। जीवा थोड़े दिनों बाद मुन्ना बजरंगी गैंग में घुस गया और इसी क्रम में उसका संपर्क मुख्तार अंसारी से संपर्क हुआ। कहते हैं कि मुख्तार को अत्याधुनिक हथियारों का शौक था तो जीवा के पास हथियारों को जुटाने का  तिकड़मी नेटवर्क था। इसी कारण उसे अंसारी का वरदहस्त भी प्राप्त हुआ और फिर संजीव जीवा का नाम कृष्णानंद राय हत्याकांड में भी आया।

Advertisement

कुछ सालों बाद मुख्तार और जीवा को साल 2005 में हुए कृष्णानंद राय हत्याकांड में कोर्ट ने बरी कर दिया था। पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार, संजीव माहेश्वरी उर्फ जीवा पर 22 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हुए। इनमें से 17 मामलों में संजीव बरी हो चुका है, जबकि उसकी गैंग में 35 से ज्यादा सदस्य हैं। जीवा पर साल 2017 में कारोबारी अमित दीक्षित उर्फ गोल्डी हत्याकांड में भी आरोप लगे थे, इसमें जांच के बाद अदालत ने जीवा समेत चार आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

एससी एसटी कोर्ट के न्यायाधीश नरेंद्र कुमार की अदालत में आज पेशी हुई थी, जहां वकीलों के भेष में आए बदमाशों ने कोर्ट में घुसकर संजीव जीवा की हत्या की है।  कोर्ट में चारों तरफ खून बिखरा हुआ है अफरा-तफरी का माहौल है। बताया जाता है कि संजीव जीवा के शरीर में 5 गोली लगी है जिसमें एक गोली हार्ट में लगी है।

Advertisement
साल 2021 में जीवा की पत्नी पायल माहेश्वरी  ने चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया को पत्र लिखकर कहा था कि उनकी (जीवा) जान को खतरा है। बता दें कि, पायल 2017 में आरएलडी के टिकट पर मुज़फ्फरनगर शहर से विधानसभा चुनाव भी लड़ चुकी हैं और हार गई थी।

Related posts

पहली बार कांग्रेस को भारी पड़ा नागरिकता कानून का विरोध, ये तो सोनिया ने सोचा भी नही होगा..

Sayeed Pathan

दिल्ली के जाफराबाद में अर्टिगा कार में खून से लथपथ मिली लाश, अफरा तफरी के बीच जांच में जुटी स्थानीय पुलिस

Sayeed Pathan

वाहन चेकिंग अभियान में 44 वाहनों से वसूले गए 31300 ₹ सम्मन शुल्क

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!