Advertisement
दिल्ली एन सी आर

दिल्ली-NCR में भूकंप के तेज झटके, 5.8 रही तीव्रता, अफगानिस्तान का हिंदुकुश था केंद्र

दिल्ली-एनसीआर में शनिवार रात को भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए हैं. बताया गया है कि भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 5.8 मापी गई है. वहीं, चंडीगढ़ और पंजाब के कई इलाकों में भी भूकंप से धरती कांपी है. लोग जान बचाने के लिए घरों से बाहर निकल आए. नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के मुताबिक, भूकंप का केंद्र जम्मू-कश्मीर के गुलमर्ग जिले से 418 किमी उत्तर पश्चिम में अफगानिस्तान के हिंदुकुश क्षेत्र में था. वहीं, खबर लिखे जाने तक किसी भी जानमाल के नुकसान की कोई सूचना सामने नहीं आई है.

इससे पहले जम्मू-कश्मीर के गुलमर्ग में आज तड़के 5.2 तीव्रता का भूकंप आया था. नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी (एनसीएस) ने बताया था कि झटका सुबह 8:36 बजे आया. भूकंप का केंद्र गुलमर्ग से करीब 184 किलोमीटर दूर धरती की सतह से 129 किलोमीटर नीचे था. हालांकि किसी नुकसान की तत्काल कोई रिपोर्ट नहीं है.

Advertisement

अधिकारियों के मुताबिक, इस साल जून से अब तक जम्मू-कश्मीर में अलग-अलग तीव्रता वाले 12 झटके आ चुके हैं. इससे पहले, 10 जुलाई की सुबह जम्मू-कश्मीर के डोडा जिले में 4.9 तीव्रता का भूकंप आया था. 13 जून को डोडा जिले में 5.4 तीव्रता का भूकंप आया था, जिससे घरों सहित दर्जनों इमारतों में दरारें आ गई थीं.

Advertisement

 

अफगानिस्तान में आए दिन आता है भूकंप

एनसीएस का कहना है कि अफगानिस्तान में हर 2-3 हफ्ते में भूकंप आता है. 11 मई को फैजाबाद के 99 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में 4.5 तीव्रता का भूकंप आया था. इसी तरह, 9 मई को फैजाबाद में 4.3 तीव्रता का भूकंप महसूस किया गया. पिछले महीने, तालिबान के नेतृत्व वाले अफगानिस्तान राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएनडीएमए) ने बताया था कि जुलाई में प्राकृतिक आपदाओं के कारण 13 प्रांतों में कम से कम 42 लोग मारे गए और 54 अन्य घायल हो गए थे.

Advertisement

कैसे करें भूकंप का बचाव

भूकंप आने के बाद लोग बेहद डर जाते हैं और वह सोच में पड़ जाते हैं कि अब क्या करें. ऐसे समय में घबराने की आवश्यकता नहीं होती है. भूकंप के झटके महसूस होते ही जहां हैं वहीं फर्श पर तुरंत बैठ जाएं. साथ ही साथ सिर को नीचे झुका लें. अगर अगल-बगल में कोई मजबूत टेबल या फर्नीचर दिखाई दे रहा है तो उसकी आड़ ले लें. इसके अलावा अगर घर से बाहर निकलने में समय न लगे तो तुरंत घर से बाहर निकलें और खाली मैदान या सड़क की तरफ जाएं.

 

Advertisement

 

 

Advertisement

Related posts

द बर्निंग ट्रेन बनी फर्रुखाबाद-कासगंज एक्सप्रेस, कोच पूरा जला कई घंटे रेलवे ट्रैक बाधित रहा

Sayeed Pathan

मोदी राज में प्रियंका गांधी को जींस पहन बार में जाने का हक नहीं ? ‘तांडव’ विवाद पर बोलीं लेखिका शेफाली वैद्य

Sayeed Pathan

फिर बढ़ेगा लॉकडाउन ? दिल्ली से अपने घर यूपी-बिहार लौटने वालों की अचानक बढ़ी संख्या

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!