Advertisement
टॉप न्यूज़दिल्ली एन सी आर

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना और प्रधानमंत्री मोदी के बीच द्विपक्षीय बैठक, तीन समझौता ज्ञापन पर हुए हस्ताक्षर

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के बीच शुक्रवार को 7 लोक कल्याण मार्ग पर द्विपक्षीय बैठक हुई। दोनों नेताओं ने सुविधाजनक तारीख पर अगरतला-अखौरा रेल लिंक, मैत्री पावर प्लांट की यूनिट- II, खुलना-मोंगला रेल लिंक के संयुक्त उद्घाटन की आशा व्यक्त की। साथ ही डिजिटल पेमेंट सहित तीन समझौता ज्ञापन हुए।

विदेश मंत्रालय के अनुसार मुलाकात के दौरान दोनों देशों के बीच तीन समझौते ज्ञापनों पर हस्ताक्षर हुए। दोनों नेताओं ने इन समझौतों का स्वागत किया। ये भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) और बांग्लादेश बैंक के बीच डिजिटल भुगतान तंत्र में सहयोग, 2023-2025 के लिए भारत और बांग्लादेश के बीच सांस्कृतिक आदान-प्रदान कार्यक्रम (सीईपी) के नवीनीकरण और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद और बांग्लादेश कृषि अनुसंधान परिषद के बीच सहयोग से जुड़े समझौता ज्ञापन हैं।

Advertisement

क्षेत्रीय स्थिति के संबंध में प्रधानमंत्री मोदी ने म्यांमार के राखीन से विस्थापित दस लाख से अधिक लोगों को शरण देने के लिए बांग्लादेश द्वारा उठाई गई जिम्मेदारी की सराहना की और शरणार्थियों के सुरक्षित और टिकाऊ प्रत्यावर्तन के समाधान के समर्थन में भारत के रचनात्मक और सकारात्मक दृष्टिकोण से अवगत कराया।

दोनों नेताओं ने राजनीतिक और सुरक्षा सहयोग, सीमा प्रबंधन, व्यापार और कनेक्टिविटी, जल संसाधन, बिजली और ऊर्जा, विकास सहयोग, सांस्कृतिक और लोगों से लोगों के संबंधों सहित द्विपक्षीय सहयोग के संपूर्ण आयाम पर चर्चा की। क्षेत्र में वर्तमान घटनाक्रम और बहुपक्षीय मंचों पर सहयोग पर भी चर्चा की।पीएम हसीना 9-10 सितंबर 2023 को जी-20 लीडर्स समिट में हिस्सा लेने के लिए अतिथि देश के रूप में भारत आई हैं।

Advertisement

नेताओं ने चट्टो ग्राम और मोंगला बंदरगाहों के उपयोग और भारत-बांग्लादेश मैत्री पाइपलाइन के चालू होने पर समझौते के कार्यान्वयन का स्वागत किया। उन्होंने भारतीय रुपये में द्विपक्षीय व्यापार और दोनों पक्षों के व्यापारिक समुदाय को इससे जुड़े तंत्र का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया और सराहना व्यक्त की।

दोनों नेताओं ने उम्मीद जताई कि व्यापक आर्थिक साझेदारी समझौते (सीईपीए) पर बातचीत जल्द शुरू होगी जिसमें वस्तुओं, सेवाओं का व्यापार और निवेश की सुरक्षा शामिल होगी। भारतीय पक्ष ने हाल ही में बांग्लादेश द्वारा घोषित इंडो-पैसिफिक दृष्टिकोण का स्वागत किया।

Advertisement

Related posts

नमामि गंगे योजना: 11000 करोड़ खर्च, फिर भी गंगा प्रदूषित क्यों, “नमामि गंगे” को लेकर “वरुण गांधी” ने “केंद्र सरकार” से किया सवाल

Sayeed Pathan

किसानों का गुस्सा बेकाबू , लालकिले के अंदर घुसे प्रदर्शनकारी किसानों के ट्रैक्टर

Sayeed Pathan

15 अप्रेल से यात्री ट्रेनों के चलाने के लिए रेलवे ने कमर कसी,यात्रियों की होगी थर्मल जांच

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!