Advertisement
अपराधटॉप न्यूज़दिल्ली एन सी आर

बृजभूषण पर जिस नाबालिग की वजह से लगा पॉक्सो, उसी के चाचा ने पलटी कहानी, मामले में आया नया मोड़, पहलवानों पर लगाए गंभीर आरोप

नई दिल्ली। कुश्ती संघ के अध्यक्ष रहे बृजभूषण शरण सिंह और पहलवानों के बीच चल रहे विवाद में अब एक नया मोड़ आ गया है। एक तरफ जहां पहलवान यौन शोषण एवं पॉक्सो के गंभीर आरोपों में बृजभूषण की गिरफ्तारी पर अड़े हुए हैं, वहीं दूसरी ओर नाबालिग के चाचा ने कहानी पलट दी है।

जिस कथित नाबालिग लड़की के यौन शोषण को लेकर बृजभूषण पर पोक्सो की धरा लगी है, उसी के चाचा ने कहा है कि उनकी भतीजी नाबालिग नहीं है और उसे भाजपा सांसद के खिलाफ बस मोहरा बनाया जा रहा है।

Advertisement

रोहतक में प्रेसवार्ता कर कथित नाबालिग के चाचा ने आरोप लगाया है कि बृजभूषण के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले खिलाडी बड़ी साज़िश कर रहे हैं। वे जातिवाद को बढ़ावा देने के साथ-साथ आंसू दिखाकर खापों को भी गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। चाचा ने आरोप लगाया है कि पहलवान उनके बड़े भाई को बरगलाने के साथ भतीजी को भी  इस्तेमाल कर रहे हैं।

नाबालिग के चाचा ने कहा कि इसमें प्रदर्शनकारी सुन लें, यह पॉक्सो का मामला नहीं है क्योंकि मेरी भतीजी बालिग है। और अगर हमारे घर की बेटी के साथ कुछ गलत हो जाता तो हमारा परिवार चुप बैठने या मामले को छिपाने के बजाय आर-पार की लड़ाई लड़ता।

Advertisement

उन्होंने बताया कि उनकी भतीजी को इस मामले में घसीटे जाने की जानकारी परिवार को तब मिली जब दस दिन पहले दिल्ली पुलिस छानबीन करने रोहतक आई। पुलिस ने परिवार को बच्ची के मरने का प्रमाण पत्र दिखाते हुए उसके बारे में पूछा, तब परिवार को सारे मामले की जानकारी हुई। परिवार ने बताया की बच्ची सही सलामत है। पता चला कि यह प्रमाण पत्र पंजाब से बनवाया गया है, जिससे साबित होता है कि पंजाब के कुछ पहलवान भी इस साजिश में शामिल हैं। इसमें और कौन शामिल है यह पुलिस की जांच में सामने आ जाएगा।

चाचा ने कहा कि जब से यह मामला सामने आया है, उनकी मां का रो-रोकर बुरा हाल है। उन्हें इस मामले की पहले कानो-कान खबर नहीं हुई लेकिन अगर उन्हें यह पहले पता चल जाता तो वो पहलवानों की ‘ऐसी-तैसी’ कर देते।

Advertisement

उन्होंने कहा कि मामला राजनीति से प्रेरित लग रहा है और वो इन प्रदर्शनकारी पहलवानों को सजा ज़रूर दिलवाएंगे। उन्होंने पहलवानों से यह भी कहा की उन्हें कानून का गलत इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

लड़की के चाचा ने यह भी बताया कि चार माह पहले रोहतक बस स्टैंड के पास के एक अखाड़ा संचालक ने नौकरी का हवाला देते हुए उनको भी इस मामले में जोड़ने का प्रयास किया था। वो तो नहीं मानें, लेकिन उनके बड़े भाई को गुमराह कर इन लोगों ने अपने साथ कर लिया। इसमें प्रदर्शन करने वाले कुछ पहलवान भी शामिल हैं।

Advertisement

जानकारी के अनुसार, रोहतक के स्कूल से मिले जन्म प्रमाण पत्र से लड़की के बालिग होने की पुष्टि हुई है। इस आधार पर माना जा रहा है कि पुलिस अब बृजभूषण शरण सिंह पर से पाक्सो की धारा हटा देगी और सिर्फ यौन शोषण मामले की जांच की जाएगी।

बता दें कि नए संसद के उद्घाटन वाले दिन अपने साथ हुए बर्ताव के बाद गत दिवस प्रदर्शनकारी पहलवान अपने मेडल गंगा में बहाने पहुंचे थे पर किसान नेता नरेश टिकैत ने उन्हें समझाया, जिसके बाद पहलवानों ने अपने मेडल नरेश टिकैत को सौंप दिए। इस पर बृजभूषण शरण सिंह ने भी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा, खिलाड़ी अपना मेडल गंगा जी में बहाने गए थे, लेकिन गंगा जी की जगह उन्होंने मेडल (नरेश) टिकैत को दे दिया। यह उनका स्टैंड है। मैं क्या कर सकता हूं?

Advertisement

उल्लेखनीय है कि प्रदर्शनकारी पहलवान 18 जनवरी को पहली बार दिल्ली के जंतर मंतर में धरने पर बैठे थे। उन्होंने भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह पर यौन शोषण के आरोप लगाए थे। खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने पहलवानों के साथ बात की और 21 जनवरी के दिन धरना खत्म कर दिया गया था। आरोपों पर जांच के लिए समिति बना दी गई। अप्रैल तक जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट जारी कर दी, लेकिन रिपोर्ट को सार्वजनिक नहीं किया गया। ऐसे में पहलवान 23 अप्रैल को फिर जंतर मंतर में धरने पर बैठ गए। पहलवानों ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया। इसके बाद बृजभूषण के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने दो एफआईआर दर्ज की। एक एफआईआर पाक्सो एक्ट के तहत दर्ज की गई थी।

Advertisement

Related posts

UIDAI–ऐसे पा सकते हैं ज्यादा सुविधाओं वाला पहचान पत्र

Sayeed Pathan

नजीर बना निकाह-हिन्दू भाइयों ने मुस्लिम बहन का भरा भात

Sayeed Pathan

एन्टी रोमियों टीम ने मनचलों और शोहदे किस्म के लोगों के विरुद्ध की कड़ी कार्यवाही

Sayeed Pathan

एक टिप्पणी छोड़ दो

error: Content is protected !!